खबर (News)

पापा मेरी वजह से अब आपको झुकना नहीं पड़ेगा 6 पेज का सुसाइड नोट छोड़कर महिला ने फंदा लगाया लिखा मेरी बेटी का ख्याल रखना

आजकल संसार में जितना पवित्र बंधन विवाह का होता है उतना कोई बंधन नहीं होता और शादी करने के बाद एक लड़की अपने ससुराल में पति के साथ बहुत से सपने संजोकर जाती है. पति पर विश्वास के साथ नई जिंदगी की शुरुआत करती है. लेकिन इस संसार में कुछ ऐसे भी लोग आज भी हैं जो इन सभी रिश्ते की मर्यादा और भावनाओं को भूल जाते हैं.

और उस लड़की का निरादर अपमान करते एक पल भी नहीं सोचते कि यह भी एक इंसान है और उसके साथ नैतिकता इंसानियत का बर्ताव करना चाहिए.और अपनी अनैतिकता और अपने बुरे बर्ताव से इतनी हद तक गुजर जाते हैं कि वह अपनी ही जिंदगी को अपने हाथों खत्म करने पर मजबूर हो जाती है.

मिली जानकारी के अनुसार अजमेर से एक महिला ने अपने पति के नाजायज संबंध के चलते अपनी जान दे दी. इस सब से उसका परिवार काफी आहत हुआ है. आइए हम आपको पूरे घटना से अवगत कराते हैं.

आपको बतादे अजमेर में पति के एक्सट्रा मैरिटल अफेयर और ससुराल वालों से परेशान महिला ने खुदकुशी की खबर सामने आई है. जांच के दौरान मृतक महिला जिसका नाम अनुराधा है. अनुराधा के पास 6 पेज का सुसाइड नोट मिला.अंतिम नोट में अनुराधा ने लिखा,”पापा अब आपको मेरी वजह से किसी के सामने नहीं झुकना होगा.इसलिए इस दुनिया को छोड़कर जा रही हूं. अपनी दो साल की बेटी को मारने की मैं हिम्मत नहीं जुटा पाई.आप इसका ख्याल रखना.अनुराधा की तीन साल पहले शादी हुई थी. उसका पति जर्मनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है.अनुराधा ने पति पर एक्सट्रा मैरिटल अफेयर रखने सहित ससुराल पक्ष पर परेशान करने का आरोप लगाया है.

 

खबरों के अनुसार वैशालीनगर के शिव सागर कॉलोनी में रहने वाले मधुसूदन सोमानी की बेटी अनुराधा 31वर्ष  अनुराधा इतनी आहत हो गई कि उसने अपनी जीवन लीला समाप्त करने का ही निर्णय ले लिया और अनुराधा ने शनिवार को  जीवन समाप्त कर लिया.घर पर माता-पिता व भाई नहीं था. केवल दो साल की बेटी अनन्या थी. परिवार घर पहुंचा तो वह मृत मिली. पुलिस को सूचना दी. शव को जेएलएन अस्पताल की मॉर्चुरी में रखवाया गया. भाई सर्वेश्वर सोमानी ने क्रिश्चियन गंज थाने में घटना की जानकारी दी. सीओ (नॉर्थ) छवि शर्मा ने घटनास्थल का मुआयना कर सुसाइड नोट अपनी कस्टडी में ले लिया है.आपको बतादे शनिवार रात को अनुराधा अपनी दो साल की बच्ची अनन्या के साथ घर पर अकेली थी.उसके माता-पिता ससुराल में चल रही परेशानी को सुलझाने के लिए समाज के लोगों से मिलने गए थे.परिजन घर पहुंचे तो अनुराधा मृत थी.अनुराधा के परिवारवालों के अनुसार शादी के बाद पति अनिरुद्ध उसे ससुराल छोड़कर जर्मनी चला गया. दोनों सिर्फ 6 महीने साथ रहे. ससुर गोविन्द लाल मालपानी, सास सरोज और देवर आदित्य उसको शारीरिक व मानसिक यातनाएं देते रहे.उसने पति को जर्मनी बुलाने की बात कही तो वीजा का बहाना बनाकर टाल दिया.वह जैसे-तैसे जर्मनी पहुंची तो प्रेग्नेंट हो गई.जांच कराने पर पता चला कि उसके पेट में जुड़वा बच्चे थे. एक बच्चे में प्रॉब्लम आई तो जबर्दस्ती अबॉर्शन करवा दिया. जांच में पता चला कि दूसरा बेबी बेटी है तो ससुराल वाले उसका भी अबॉर्शन कराने का दबाव बनाने लगे. पति ने उसे जर्मनी से ससुराल किशनगढ़ भेज दिया. जहां प्रेग्नेंसी के दौरान सास-ससुर व देवर ने काफी प्रताड़ित किया.महिला बेटी अनन्या के जन्म के बाद दूसरी बार जर्मनी पहुंची तो उसे वहां पति के किसी अन्य महिला से अवैध संबंध होने का पता चला. उसने विरोध किया तो पति आए दिन परेशान करने लगा. उसे खाना तक नहीं देता था. परेशान होकर वह बेटी को लेकर लौट आई.तब से वह पीहर में माता-पिता के पास रह रही थी.प्रताड़ित करने वालों को सजा दिलाएं अंतिम नोट में अनुराधा ने पिता और समाज से अपील की वह उसे व उसकी दो साल की मासूम बेटी को प्रताड़ित करने वालों को सजा दिलाकर उसे न्याय दिलाएं.अनुराधा के माता पिता और भाई परिवार जन काफी सदमे में है बेटी की इस तरहा जीवन समाप्त  कर लेने से और मासूम बच्ची जो  2 वर्ष की है उसके भविष्य को लेकर भी चिंतित है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top